Unfortunately, they also come with a bitter, burnt sugar taste, so you may want to toast them first over the stove to mellow the flavor. Fenugreek seeds meaning in English is that it is a leguminous annual Eurasian herb with aromatic seeds. अगर आपके बालो में रुसी हैं, तो मेथी आपकी इस समस्या को दूर कर सकती हैं| मेथी दाने को पीसकर पेस्ट बनाये| इस पेस्ट को दही में मिलाकर बालो की जड़ो की अच्छी तरह मालिश करे और फिर आधे घंटे बाद बाल धो ले| हफ्ते में कम से कम दो बार ऐसा करने से आपके बालो से रुसी गायब हो जायेगीऔर साथ ही आपके बाल भी मुलायम हो जायेगे|, 5. Fenugreek is an erect annual plant of the Fabaceae or the bean family. पेट दर्द में मेथी दाने का सेवन करने से लाभ होता हैं| गर्म पानी के साथ मेथी दाने को पाउडर खाने से पेट दर्द में आराम होता हैं|, 4. Garlic-Lasun/Lasan 13. Poppy seeds- Khas- khas 15. Obesity Phytotherapy: Review of Native Herbs Used in Traditional Medicine for Obesity. बच्चो को मेथी दाने के चाय ना पिलाये| मेथी के अधिक सेवन से सिर दर्द और लूस मोशन हो सकते हैं, इसीलिए इसका सेवन अधिक ना करे| Galactomannan is easily extracted from the seed, so the extract may contain about the same amount as the seeds. 10. In the morning you can grind the slimy seeds into Fenugreek paste. An annual herb or southern Europe and eastern Asia having off-white flowers and aromatic seeds used medicinally and in curry. Ginger -Ala/Adarak 12. मेथीने काय होतं नुकसान (Side Effects Of Fenugreek Seeds In Marathi) कोणत्याही गोष्टीचे फायदे असतात तसंच त्याचं नुकसानही असतं. When you soak it always see that whole of the seeds are soaked inside water. Fenugreek Powder: Fenugreek powder is readily available in the market. Besides its uses in cooking, fenugreek seeds have also been used in alternative medicine like Chinese medicine and Ayurveda. Recent researchers state exceptional benefits of fenugreek for skin whitening, acne and to tighten skin. Glossary of Spices, Herbs and Misc. Research is always ongoing it seems in the quest to find or develop … A spice made from the seeds of Trigonella foenum-graecum, used in Indian and Thai cooking. In cuisine, fenugreek seeds act as a stabilizer, flavouring agent as well as thickener. Fenugreek seeds need to be ground or boiled and soaked before eating them. अगर आप खून को पतला करने की दवाई लेते हैं, तो आप मेथी का सेवन ना करे| Fenugreek seeds smell and taste similar to maple syrup. Ayurveda considers fenugreek an excellent food for people with a kapha dosha. जाने-माने डॉक्टरों द्वारा लिखे गए लेखों को पढ़ने के लिए myUpchar पर लॉगिन करें. Fenugreek is reported to possess nutritive and restorative properties, and has been used … ... fenugreek meaning in Marathi: It is known as Mēthī (मेथी) in Marathi. Apart from reducing cholesterol, preventing diabetes and increasing breast milk, fenugreek seeds and leaves are extensively used in Indian households. अगर आप डायबिटीज के मरीज हैं, तो एक चम्मच मेथी दाना आपको इस बीमारी से बचा के रख सकता हैं| रात को सोने से पहले एक कप साफ़ पीने के पानी में एक चम्मच मेथी दाना भिगोकर रख दे| सुबह इस पानी को छलनी से छानकर पियें| इससे वजन के साथ साथ शुगर भी कण्ट्रोल में रहती हैं|, 11. Saffron- Keshar/Kesar 17. भारत में मेथी एक लोकप्रिय जड़ी बूटी है। भूमध्यसागरीय क्षेत्र, दक्षिणी यूरोप और पश्चिमी एशिया के कुछ हिस्सों में मेथी की उत्‍पत्ति मानी जाती है। मेथी के पत्तों और दानों का इस्‍तेमाल किया जाता है। अपने स्‍वाद और खुशबू के कारण मेथी का इस्‍तेमाल खाने में भी किया जाता है एवं अनेक आयुर्वेदिक औषधियों में मेथी का प्रयोग किया जाता है।, मेथी को बढ़ने के लिए पर्याप्‍त धूप और उपजाऊ मिट्टी की जरूरत होती है, इसीलिए भारत में सामान्‍य रूप से इसकी खेती की जाती है। मेथी के सबसे बड़े उत्‍पादकों में भारत का नाम भी शामिल है। मेथी की पत्तियों का इस्‍तेमाल सब्‍जी के रूप में किया जाता है और इसके बीजों से मसाले एवं दवाईयां तैयार की जाती हैं।, कुछ दवाओं या औषधियों के स्‍वाद में सुधार लाने के लिए भी मेथी का प्रयोग किया जाता है। इसके अलावा घरेलू नुस्‍खों और अनेक विकारों एवं रोगों के इलाज में भी मेथी काम आती है। पाचन तंत्र पर चिकित्‍सकीय प्रभाव डालने के कारण भारत के हर घर की रसोई में मेथी मौजूद होती है।, मेथी के इतिहास की बात करें तो प्राचीन समय में यूनानियों द्वारा कब्र में शवों को दफन करने से पहले उन पर मेथी का लेप लगाया जाता था। तेज सुगंध और स्‍वाद के कारण कॉफी के नॉन-कैफीनयुक्‍त विकल्‍पों की जगह मेथी का इस्‍तेमाल किया जाता है। घर पर तैयार पेय पदार्थों और औषधियों में भी मेथी उपयोगी है।, मेथी में त्वचा के लिए अनेक चमत्कारी औषधीय गुण हैं। इसकी एंटी-ऑक्सीडेंट गुणवत्ता त्वचा को फ्री-रेडिकल क्षति से बचाती है और त्वचा पर आने वाले बुढ़ापे के लक्षणों से छुटकारा दिलाती है। झुरियों के अलावा, मेथी अपने एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों की वजह से फोडे, एक्जिमा एवं जली हुई त्वचा को ठीक करने में भी उपयोगी है। यह जिद्दी निशानों (स्कार्स) से भी छुटकारा दिलाने में सक्षम है।, मेथी में डाइओसजेनिन नामक एक तत्व होता है जिसमे एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं जो मुँहासे और त्वचा की अन्य समस्याओं को कम करते हैं। मेथी के बीज आपकी त्वचा को मॉइस्चराइज करते हैं और त्वचा को पोषण प्रदान कर रूखेपन से भी झुटकारा दिलाते हैं।, त्वचा के निखार एवं स्वास्थ्य में सुधार लाने के लिए -, अधिक मात्रा में प्रोटीन होने की वजह से मेथी बालों के विकास के लिए भी बहुत अच्छा होता है। वास्तव में प्रोटीन बालों को घना करने के साथ स्वस्थ एवं मजबूत भी बनाता है। यह बालों के रोम ( Hair Follicles), जो बालों के झड़ने के इलाज के लिए महत्वपूर्ण है उनके पुनर्निर्माण में भी मदद करते हैं। इसके अलावा इसमें मौजूद लेसीथिन (lecithin) बालों की नमी को बनाये रखता है।, मेथी के बीज में प्रोटीन और निकोटिनिक एसिड प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। जो बालों को मजबूत करने में सहायक है और उनका टूटना भी कम करते हैं। साथ ही मेथी के बीज रूसी की समस्या को कम करते हैं। डैंड्रफ आमतौर पर सिर की सुखी त्वचा या फंगल संक्रमण के कारण होता है। मेथी के उपयोग से रुसी को कम करने में मदद मिलती है। इसके साथ ही मेथी के बीज़ बालों के रंग को भी बनाये रखते हैं।, बालों को घना एवं मजबूती प्रदान करने के लिए -  Coriander seed leaves or Cilantro leaves- Kothimbeer/Kothimeer 11. त्वचा से जुड़े रोगो जैसे फोडे-फुंसी, जलने का निशान और  एक्‍जिमा को ठीक करने में मेथी दाना कारगर हैं| इन्हे  ठीक करने के लिए मेथी दाना को पानी में पीसकर इसका लेप बनाये| अब इस लेप को फोडे-फुंसी और जले के निशानों पर लगाये|, 10. Disclaimer: All information are good but we are not a medical organization so use them with your own responsibility. Usually, a fenugreek … Role of Fenugreek in the prevention of type 2 diabetes mellitus in prediabetes, The effects of a commercially available botanical supplement on strength, body composition, power output, and hormonal profiles in resistance-trained males, 30 मिनट तक प्रतीक्षा करें और फिर इसे हाथ की उंगलियों से स्क्रब करते हुए धो लें।, इससे चेहरे से मृत त्वचा की कोशिका दूर हो जाती है।, रात भर एक गिलास पानी में 1 से 2 चम्मच मेथी के बीज भीगने/ फूलने के लिए छोड़ दें। अगली सुबह, खाली पेट में उस पानी को पी लें और मेथी के बीज को चबा कर खा लें। रोजाना इस प्रक्रिया को दोहराएं ।, आप मेथी के आटे से बेक्ड समाग्री भी खा सकते हैं।, रात भर एक कप पानी में एक चम्मच मेथी के बीज भिगो दें। अगली सुबह, कुछ मिनट के लिए बीज के साथ-साथ पानी उबाल लें और फिर इसे छान लें। इसे हर सुबह पियें।, आप कुछ ताजा मेथी के पत्ते का सेवन सूप एवं सलाद के साथ भी कर सकते हैं।, दूध का प्रवाह बढ़ाने के लिए, आप मेथी के बीज का एक कैप्सूल (कम से कम 500 मिलीग्राम) रोजाना दिन में 3 बार ले सकते हैं। लेकिन इसके लिए पहले एक डॉक्टर से परामर्श जरुर करें।, डेढ़-दो कप पानी में एक चम्मच मेथी के बीज लें।, इन्हें 5 मिनट के लिए उबाल कर फिर छान लें।, स्वादानुसार इसमें शहद मिलाकर अपनी चाय में मिठास घोलें। इसके प्रयोग से आपको लाभ अवश्य होगा।, एक चम्मच मेथी पाउडर, नींबू का रस और कच्चे शहद मिक्स करें। इस मिश्रण का दिन में दो बार सेवन करने पर सर्दी और फ्लू के लक्षणों से लड़ने में मदद मिलेगी।, ठीक होने की गति को तीव्रता प्रदान करने के लिए, दिन में मेथी की चाय दो या तीन बार पिएं।, गले की खराश से छुटकारा पाने के लिए, दिन में दो बार गर्म मेथी की चाय से कुल्ला करें।, ज्यादा मात्रा में मेथी का सेवन ना करें, क्योंकि इससे उबकन एवं, इस का उपयोग करने से पहले, थोड़ी सी त्वचा पर इसका इस्तेमाल कर जांच लें कि आपको इससे, गर्भावस्था के दौरान इस जड़ी बूटी का प्रयोग न करें। (और पढ़ें -, यदि आप किसी भी तरह की दवा ले रहे हैं तो, अपने आहार में इस जड़ी बूटी को शामिल करने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श करें।, मेथी का सेवन करने पर अपचन, सीने में जलन, गैस, सूजन और मूत्र गंध जैसी अन्य परेशानियां हो सकती है।, अध्ययनों के अनुसार मेथी के बीज से निकाला गया तेल, मेथी के बीज में पॉलीफेनोलिक फ्लैवोनोइड्स होते हैं जो गुर्दे की क्रिया में सुधार करते हैं और कोशिकाओं की क्षति को कम करते हैं। (और पढ़ें -, मेथी के बीज लीवर को शराब के सेवन से होने वाली क्षति से बचाते हैं। अत्यधिक शराब का सेवन लिवर को नुकसान पहुँचता हैं। मेथी के बीज में मौजूद पॉलीफेनोलिक यौगिक लीवर की क्षति को कम करते हैं और अल्कोहल के चयापचय में मदद करते हैं। (और पढ़ें -, मेथी के बीज वजन घटाने के लिए भी लाभकारी है। मेथी के बीज, कुछ अध्ययनों से पता चला है कि मेथी टेस्टोस्टेरोन के स्तर में वृद्धि और कामेच्छा को बढ़ाने में मददगार साबित हो सकती है। (और पढ़ें -, मेथी की पत्तियों को सूखा कर जड़ी बूटी के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।, मेथी के बीज भिगोकर या सूखे खाए जा सकते हैं और अक्सर कुछ व्यंजनों या सूप के लिए टॉपिंग के रूप में भी इनका उपयोग किया जाता है।, बीज मुख्य रूप से एक मसाले के रूप में उपयोग किये जाते है और कई व्यंजनों में इनका प्रयोग कर उनके स्वाद को बढ़ाया जाता है।, करी के पेस्ट, सूप आदि वंजानो में स्वाद बढ़ाने के लिए इन बीजों को पाउडर के रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकता है।, मेथी के पौधे को सब्जी के रूप में उपयोग किया जाता है।, मेथी के बीज हर्बल चाय बनाने के लिए उपयोग किये जाते हैं। कुछ बीजों को पानी में उबालें और फिर उबलने के बाद उस पानी को चाय के रूप में पिए। यदि आप चाहें तो स्वाद के लिए शहद और नींबू का भी प्रयोग कर सकते हैं।, मेथी के बीज़ो से मेथी का तेल भी बनाया जाता है। जिसमे कई प्रकार के औषधीय गुण होते हैं।. The ratio of water and the Seeds should be- 2:1. The fenugreek plant belongs to the pea family and is herbaceous in nature. Meaning of (Methi) fenugreek in Hindi language and its top 15 health benefits : मेथी खाने के फायदे और इसके उपयोग Benefits of Fenugreek Seeds, Methi Seeds : Diabetes Control : 1 tsp of fenugreek seeds soaked overnight and consumed early in the morning on an empty stomach is a remarkable cure to control blood sugar levels. Methi / Fenugreek Seeds meaning in Hindi, Spanish, tamil, telugu, marathi, kannada, malayalam, in hindi name, gujarati, in marathi, indian name, tamil, english, other names called as, translation get all information and details about it here Seed rate and Sowing of Fenugreek: The best sowing time for fenugreek or methi crop in Northern parts India in … Since fenugreek seeds contain dietary fiber, they can help to control bowel movement; As they are high with potassium, fenugreek seeds help in controlling blood pressure level. List of commonly used whole spices in Indian kitchen The spices and herbs are a prominent reason why the Indian food has become so favorite among the people across the globe. Fenugreek (Methi) Water Benefits: 5 Reasons To Drink This Up Every Morning Fenugreek seeds are loaded with health-benefiting properties. PMID: 28266134 Delivery के बाद मेथी का सेवन बहुत लाभकारी हैं| Delivery के बाद औरत के शरीर से गन्दगी दूर करने और रक्त को शुद्ध करने के लिए मेथी के दानो का काढ़ा बनाकर पिलाये|, 13. 6. Can Be Of Benefit To Diabetics. There are multiple ways to eat fenugreek seeds. These seeds are thought to have multiple health benefits, such as aiding weight loss, preventing diabetes, lowering cholesterol, and increasing breast milk supply. Fenugreek, also known as Bird’s Foot, Greek Hayseed, Watu, Methi and Hilba, is a native to the Middle East and is considered as one of the oldest medicinal plants. Basic Report: 02019, Spices, fenugreek seed. Fenugreek or methi seeds, long used in India and other areas for health benefits, have spread across the world as alternative medicine. Fenugreek leaves are eaten in India as a vegetable. आजकल सबसे अधिक मौत हार्ट अटैक के कारण हो रही हैं| जिसका कारण हैं, शरीर में बढ़ता कोलेस्‍ट्रॉल का लेवल| शरीर में कोलेस्‍ट्रॉल का लेवल बढ़ने से हार्ट अटैक आने का खतरा बढ़ जाता हैं| अगर आप रोजाना अपने भोजन में सामान्य रूप से मेथी दाने का इस्तेमाल करे, तो आपके शरीर में कोलेस्‍ट्रॉल का लेवल कण्ट्रोल में रहेगा| जिससे हार्ट अटैक का खतरा अपने आप कम हो जायेगा|, 2. सप्ताह में एक बार इस प्रक्रिया को जरूर दोहराएं।, (और पढ़ें – क्षतिग्रस्त बालों (Damaged Hair) के लिए आसान सा घरेलू उपचार), मेथी के बीज शुगर के रोगियों के लिए अत्यंत फायदेमंद है। इसका ह्य्पोग्ल्य्सिमिक गुण रक्त में शुगर के स्तर को नियंत्रित करने में सहायक है। इसके अलावा इसमें निहित फाइबर कार्बोहाइड्रेट एवं शुगर के अवशोषण को धीमा करता है।, विटामिन और पोषण अनुसंधान के इंटरनेशनल जर्नल में प्रकाशित 2009 के एक अध्ययन में पाया गया कि मेथी के बीजों का ह्य्पोग्ल्य्समिक और ह्य्पोलिपिडेमिक प्रभाव टाइप 2 मधुमेह के रोगियों के लिए बहुत ही अच्छा है। इस अध्ययन से पता चलता है कि गर्म पानी में भिगोए 10 ग्राम मेथी के बीज का सेवन उच्च रक्त शर्करा को नियंत्रित करने में मददगार होता है।, औषधीय खाद्य के जर्नल में प्रकाशित 2009 के एक और दुसरे अध्ययन के अनुसार, मेथी के बीजों से बने हुए खाद्य प्रदार्थ का सेवन करने से शरीर को इन्सुलिन प्रतिरोध में मदद मिलती है।, नोट - मधुमेह की दवाइयों के साथ मेथी के बीज का सेवन करने से आपके रक्त में शुगर का स्तर बहुत कम हो सकता है, इसलिए मेथी के बीजों का सेवन करने से पहले एक बार अपने डॉक्टर से सलाह लें।, शिशुओं को स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए मेथी के बीजों का सेवन करना फायदेमंद माना जाता है। इस में फाइटोस्ट्रोजेन होता है जो स्तनपान कराने वाली माताओं में दूध उत्पादन को बढ़ाता है। यह गैलेक्टोगॉग्स (galactagogues) का एक बहुत ही अच्छा स्रोत है जो स्तन-दूध की मात्रा में बढ़ोतरी लाता है। इसके लिए मेथी के बीज एवं पत्तियों दोनों का उपयोग उत्तम है।, 2011 में Journal of Alternative and Complementary Medicines में प्रकाशित एक अध्य्यन के अनुसार गैलेक्टोगॉग्स की चाय पीने से दूध की मात्रा में तो बढ़ोतरी आती ही है, साथ ही में यह उसकी गुणवत्ता को भी बढ़ाता है। माना जाता है कि यह नवजात शिशु को स्वस्थ वजन ग्रहण करने में भी मदद करता है। इसमें विटामिन और मैग्नीशियम होते हैं जो दूध की गुणवत्ता को बढ़ाते हैं और शिशु के समग्र स्वास्थ्य में वृद्धि लाते हैं। यह बच्चा पैदा होने के बाद वात के कारण मोटापा एवं शरीर-दर्द जैसे समस्याओं का भी हल है।, स्तन-दूध की मात्रा एवं गुणवत्ता में सुधार लाने के लिए -, यदि आपका शिशु डायरिया का संकेत दिखाएं तो इसका सेवन रोक दें।, नोट - अस्थमा या मधुमेह की बीमारी से ग्रस्त व्यक्ति मेथी के बीज का सेवन करने से पहले एक बार डॉक्टर से पूछ लें।, (और पढ़ें – माँ का दूध बढ़ाने के लिए क्या खाएं), अध्यनो के अनुसार मेथी के बीज में कोलेस्ट्रॉल कम करने की क्षमता है खासतौर पर यह LDL यानि "ख़राब"  कोलेस्ट्रॉल को कम करता है। मेथी के बीज में नारिंगेनिन (naringenin) नामक एक फ्लैवोनॉयड होता है जो उच्च कोलेस्ट्रॉल वाले लोगो में लिपिड स्तर को कम करता है।, इसमें निहित घुलनशील फाइबर पचे हुए खाने के चिपचिपेपन को बढ़ा कर शरीर में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में सहायता करता है। हानिकारक कोलेस्ट्रॉल रक्त-धमनियों में रुकावट पैदा कर सकता है और प्रभावित व्यक्ति को दिल का दौरा या फिर स्ट्रोक हो सकता है। मेथी के बीज हानिकारक कोलेस्ट्रॉल को कम करने में अत्यंत सहायक है।, उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने के लिए रोजाना दो औंस यानि लगभग 57 ग्राम मेथी के बीजों का सेवन करें। A small plant with big benefits: Fenugreek (Trigonella foenum-graecum Linn.) It is commonly named as Methi in Hindi, Bengali, Gujarati, Marathi and Oriya, Menthe in Kannada, Meeth in Kashmiri, Uluva in Malayalam, Meth … आप मेथी की पत्तियां का इस्तेमाल खाना बनाने में या फिर सूप और सलाद में भी कर सकते हैं।, (और पढ़ें – मासिक धर्म के दर्द का घरेलू उपचार), मेथी के बीज गठिया के कारण होने वाले जोड़ों के दर्द में विशेष रूप से फायदेमंद हैं। इसमें दिओस्जेनिन नामक एक प्रदार्थ होता है जो जोड़ों में हो रहे दर्द से आराम दिलाने के लिए अत्यंत प्रभावी हैं। इसके अलावा, मेथी के बीज में आयरन, कैल्शियम एवं फॉस्फोरस पाया जाता है जो हड्डियों को पोषक तत्वों से सिंचित कर उन्हें स्वस्थ एवं मजबूत बनाता है। इसमें एंटी-ऑक्सीडेंट एवं एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण भी पाएं जाते हैं जो जोड़ों में होने वाली सूजन को कम करने में सक्षम हैं।, रात को सोने से पहले एक चमच्च मेथी के बीज पानी में भिगो दें तथा सुबह इन स्वास्थ्यवर्धक बीजों को चबाकर खाएं। इसके अतिरिक्त मेथी के बीज के पाउडर एवं गर्म पानी से एक पेस्ट तैयार करें। फिर प्रभावित क्षेत्र पर इस पेस्ट को लगा लें और सूखने पर गर्म पानी से धो लें। दर्द ना जाने तक इस प्रक्रिया को रोजाना दिन में दो बार दोहराएं।, मशहूर कहावत है कि किसी भी चीज की ज्यादती अच्छी नहीं होती है। यह कहावत मेथी पर भी लागू होती है।, आप मेथी का उपयोग कई तरीकों से कर सकते हैं। इसे मसालें, सब्ज़ी, औषधि आदि किसी भी रूप में इसका सेवन किया जा सकता है।, मेथी दाना की तासीर गर्म होती है और इसलिए खाना पकाने के दौरान यह बहुत कम मात्रा में उपयोग किया जाता है। तासीर गर्म होने के कारण इसका सेवन अधिक मात्रा में न करें क्यूंकि अधिक मात्रा में सेवन करने पर आपके पाचन तंत्र पर असर पड़ सकता है।, अस्वीकरण: इस साइट पर उपलब्ध सभी जानकारी और लेख केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए हैं। यहाँ पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए। चिकित्सा परीक्षण और उपचार के लिए हमेशा एक योग्य चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए।. सूखे मेथी के बीजों को भून लें और फिर उन्हें पीसकर चूर्ण बना लें। आप इस चूर्ण का इस्तेमाल खाने पर छिड़क कर या फिर पानी के साथ कर सकते हैं।, (और पढ़ें – कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए पियें ये जूस), मेथी के बीज में अच्छे एंटी-ऑक्सीडेंट एवं हृदय संरक्षण गुण पाएं जाते हैं जो समग्र हृदय स्वास्थ्य में सुधार लाने के लिए फायदेमंद हैं। यह रक्त प्रवाह को नियमित कर ब्लड-क्लॉट से बचाव करता है। रक्त-चाप को भी कम करने में सहायता करता है। इसके अलावा, यह रक्त लिपिड स्तर पर अपने सकारात्मक प्रभाव के कारण atherosclerosis के जोखिम को भी कम करता है। साथ ही में, यह हृदय रोग के दो प्रमुख कारणों रक्त शर्करा और मोटापे​ को नियंत्रित कर हृदय रोग के खतरे को बहुत हद तक कम कर देता है।, मेथी के बीज में 25% गैलेक्टोमैनन होता है जो एक प्रकार का प्राकृतिक घुलनशील फाइबर होता है जो दिल की बीमारियों को रोकने में मदद करता है। दिल का दौरा मौत का एक प्रमुख कारण है, और यह तब होता है जब दिल की ओर जाने वाली धमनी अवरुद्ध हो जाती है। मेथी के बीज़ दिल को स्वस्थ बनाये रखने में काफी सहायक होते हैं।, हृदय स्वास्थ्य में सुधार लाने के लिए रोज़ाना एक-दो कप मेथी के बीजों की चाय पिएं। मेथी के बीज की चाय बनाने के लिए -, (और पढ़ें – धूम्रपान से हृदय रोग का खतरा), मेथी के बीजों में अच्छी मात्रा में घुलनशील फाइबर पाया जाता है जो कब्ज से राहत दिलाने में बहुत सहायक सिद्ध होता है। यह अपच के कारण पेट में होने वाले दर्द से आराम दिलाने में भी मददगार है। इसके अलावा, यह पेट एवं आंतों की अम्लता, जलन एवं सूजन का भी एक अच्छा उपचार है। यह एक प्राकृतिक पाचन टॉनिक है, और इसके स्नेहक गुण आपके पेट और आंतों को शांत करने में मदद करते हैं। यह गैस्ट्र्रिटिस और अपचन के लिए एक प्रभावी उपचार है।, फाइटोथेरेपी रिसर्च पत्रिका में प्रकाशित एक अध्ययन के मुताबिक, मेथी में पाए जाने वाले फाइबर के उत्पाद का 2 सप्ताह तक दिन में 2 बार भोजन से 30 मिनट पहले सेवन करने पर अक्सर सीने में जलन की शिकायत में कमी आई है।, कब्ज़ से राहत पाने के लिए - 2. The seeds of fenugreek or Trigonella foenum-graecum, also called methi, are rich in flavonoids, saponins, alkaloids, amino acids, protein, and fiber.They also contain vitamins A and C, calcium, iron, and other minerals. Fenugreek seeds reduce total cholesterol, LDL and increase good cholesterol (HDL) Fenugreek seeds have been studied for their effects on reducing total cholesterol levels. Required fields are marked *, Methi or Fenugreek Hindi Meaning & Benefits, मेथी दाना के फायदे (Benefits of fenugreek seeds), http://www.healthhinditips.com/back-pain-treatments-in-hindi/, Kohni ka Kalapan Kaise Dur Kare – कोहनी और घुटनों का कालापन दूर करें, Vitamin C Ki Kami Se Hone Wale Rog aur Upchar, अपेंडिक्स (Appendix) के मुख्य लक्षण और घरेलू उपचार, Benefits of Nutmeg in Hindi जायफल के 17 फायदे, What is Meaning of Parsley in Hindi & Parsley Leaves, What is Turmeric Meaning in Hindi & Benefits of Turmeric, महिलाओं को गर्भावस्था में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं, जानें गर्भावस्था के दौरान सावधानियां – क्या करें व क्या ना करें, ब्लड कैंसर Blood Cancer Reason in Hindi – Blood Cancer Lakshan, सेलेरी के फायदे व उपयोग – 13 Health Benefits of Celery in Hindi, 13 Benefits of Jojoba Oil in Hindi – जोजोबा तेल के फायदे, (ब्लूबेरी के फायदे) Top 17 Health Benefits of Blueberry in Hindi, सेब का सिरका के 18 चमत्कारी फायदे नुकसान और उपयोग, 7 दिन में शीघ्रपतन का इलाज करने की आसान घरेलू दवा. Also used as spice for flavouring food. Fenugreek side effects. Pregnancy के दौरान मेथी दाना का सेवन नहीं करना चाहिए, क्योंकि मेथी दाने की तासीर गर्म होती हैं| मोटापा घटाने में आजकल 95 % लोग लगे हैं| अगर आप बिना साइड इफ़ेक्ट और बिना महेनत के मोटापा घटाना चाहते हैं, तो मेथी खाना जल्दी शुरू कर दे| एक शोध के अनुसार सही खान पान की आदत के साथ अगर आप रोजाना मेथी खाये तो अपने वजन को कम कर सकते हैं|, 6. Fenugreek Plant. मेथी दाने के अधिक  सेवन से पेशाब में बदबू आने लगती हैं|. The plant is of masculine gender and is associated with the power of the planet Mercury, the element Air and the deity Apollo. The amount in fenugreek extract varies depending on the extraction process, so check the label on the products you buy. Fenugreek seeds have about 1 gram of fiber per teaspoon, according to the U.S. Department of Agriculture. अगर आपका ब्लड प्रेशर अधिक रहता हैं, तो आपको मेथी दाने का सेवन करना चाहिए| मेथी दाना ब्लड प्रेशर को कण्ट्रोल में करके रखता हैं| 5 ग्राम सोया बीज के साथ बराबर मात्रा में मेथी दाना पानी के साथ पीसकर सुबह शाम खाने से ब्लड प्रेशर कण्ट्रोल में रहता हैं|, 3. साइटिका, आर्थराइटिस और कमर दर्द जैसी प्रॉब्लम को मेथी के इस्तेमाल से ठीक किया जा सकता हैं| दर्द से छुटकारा पाने के लिए गर्म पानी के साथ सोंठ पाउडर और एक ग्राम मेथी दाना पाउडर रोजाना दिन में दो बार खाये| इससे आपका दर्द ठीक हो जायेगा|, 12. It facilitates weightloss, is good for your liver, kidneys and metabolism. Fenugreek seeds- methya/Methi 14. 3. आज हम आपको हर घर में इस्तेमाल किये जाने वाले मशाले मेथी के बारे में बताने जा रहे हैं| इसीलिए हमने अपनी आज की पोस्ट का टाइटल “Fenugreek in Hindi” ये रखा हैं| मुख्य रूप से मेथी का  इस्तेमाल मशाले के रूप में किया जाता हैं, इसीलिए हर घर में मेथी हमेशा मौजूद होती हैं| मेथी स्वास्थ्य की दृस्टि से भी बहुत गुणकारी होती हैं| मेथी के दानो (Fenugreek Seeds) में नियासिन, प्रोटीन, लाइसिन, विटामिन सी और ट्रायप्‍टोपान जैसे अनेक प्रकार के पोषक तत्व पाये जाते हैं| ये पोषक तत्व हमारे शरीर के लिए बहुत जरुरी होते हैं|, Fenugreek Meaning in Hindi : हमने आपको ऊपर बताया कि यह हर घर में इस्तेमाल होने वाला मशाला हैं, लेकिन फिर भी कमजोर अंग्रेजी के कारण अधिकतर लोग नेट पर फेनुग्रीक मीनिंग इन हिंदी ये सर्च करते हैं| फेनुग्रीक को हिंदी में मेथी कहते हैं| Trigonella foenum-graecum यह मेथी का वैज्ञानिक नाम हैं| मेथी की खुशबु तेज होती हैं, और यह स्वाद में थोड़ी कड़वी होती हैं| मेथी के दानो के साथ साथ मेथी की पत्तियों का भी भारतीय किचन में इस्तेमाल किया जाता हैं| मेथी के पत्तो से बना साग खाने में स्वादिस्ट होने के साथ साथ आपके शरीर को भी भरपूर पोषण देता हैं| मेथी के दानो की तासीर गर्म और मेथी के पत्तो की तासीर गर्म होती हैं|, मेथी में अनेक बड़े बड़े रोगो जैसे ब्लड प्रेशर, कैंसर, शुगर और पेट से जुड़े रोगो को ठीक करने की क्षमता होती हैं| “Fenugreek Seeds in Hindi” के आर्टिकल में हम आपको मेथी के फायदे क्या हैं, इसके बारे में बतायेगे| तो चलिए पोस्ट को आगे बढ़ाये और जाने मेथी दाना के फायदे|, 1. These combine to make fenugreek seeds and their oil a potent natural remedy for a range of maladies. Fenugreek seeds are used to reduce or solve digestive problems such as constipation and stomach ache. The flowers develop into long brown pods which contain the fenugreek seeds. Methi/Fenugreek water is something that anybody can consume. It is cultivated worldwide as a semiarid crop. Fenugreek seeds Meaning in English Fenugreek seeds (Methi Dana) come from a plant named Fenugreek that's used as a seasoning ingredient in countries like the Middle East, Egypt, and India. मल-त्याग क्रिया को नियमित करने के लिए, रोजाना सोने से पहले एक गिलास गर्म पानी में आधा चमच्च मेथी के बीज का पाउडर मिलाकर पियें।, नोट - छोटे बच्चों में कब्ज़ का उपचार करने के लिए मेथी के बीज का उपयोग नहीं करना चाहिए।, मेथी के बीज में एंटी-ऑक्सीडेंट गुण पाएं जाते हैं जो शरीर को फ्लू एवं सर्दी से लड़ कर उन्हें मात देने में सहायता करते हैं। इसमें प्रभावशाली एंटीवायरल, जीवाणुरोधी और विभिन्न अन्य औषधीय गुण हैं जो आपको बीमार कराने वाले सूक्ष्मजीवों को खत्म कर आपको प्रफुल्लित महसूस कराते हैं।, यह गल-शोथ का भी एक सफल उपचार है और बुखार को भी कम करने में सहायक है।, (और पढ़ें - इन्फ्लूएंजा या फ्लू के लक्षण), मेथी में कुछ ऐसे योगिक पाएं जाते हैं जिनमें एस्ट्रोजन सम्बंधित गुण समाविष्ट होते हैं जो रजनोवृत्ति से जुड़े लक्षणों से आराम दिलाने में सक्षम हैं। यह यौगिक हॉट फ्लैशेस, अवसाद (डिप्रेशन) और मूड में उतार-चढ़ाव जैसे रजोनिवृत्ति के लक्षणों को कम करने में सहायक है। इसके अतिरिक्त इसमें अधिक मात्रा में आयरन पाया जाता है जो रेड ब्लड सेल्स के उत्पादन द्वारा शरीर में होने वाली खून की कमी को पूरा करता है।, (और पढ़ें – डिप्रेशन दूर करने के घरेलू उपाय), मेथी के बीज में एंटी इंफ्लेमेटरी और एनाल्जेसिक यानि दर्द को कम करने वाले गुण होते हैं। जिनके कारण यह मासिक धर्म में होने वाले दर्द को भी कम कर सकता है। अध्यनो में पाया गया है की मेथी के बीजों का पॉवडर थकान, सिरदर्द, मतली आदि अन्य परेशानियों को काफी हद तक कम कर देता है।, मासिक धर्म से सम्बंधित समस्याओं को दूर करने के लिए -, दिन में दो बार मेथी की चाय पियें। Fenugreek Seeds: Usually to use it, they are soaked overnight. A small plant with big benefits: Fenugreek (Trigonella foenum-graecum Linn.) मेथी के बीज के फायदे हैं त्वचा के लिए - Fenugreek Seeds for Skin in Hindi, मेथी के फायदे बालों के लिए - Methi ke Fayde for Hair in Hindi, मेथी के औषधीय गुण करें मधुमेह को नियंत्रित - Fenugreek Powder for Diabetes in Hindi, मेथी खाने के लाभ हैं स्तन-दूध बढ़ाने में में सहायक - Fenugreek for Breast Milk Production in Hindi, मेथी दाना के गुण हैं कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए - Methi Seeds Benefits for Cholesterol in Hindi, मेथी बेनिफिट्स करे हृदय स्वास्थ्य में सुधार - Fenugreek Benefits for Heart in Hindi, मेथी के बीज का लाभ दिलायें कब्ज़ से छुटकारा - Fenugreek Seeds for Constipation in Hindi, मेथी दाने के फायदे हैं सर्दी में उपयोगी - Methi Good for Cold in Hindi, मेथी के लाभ हैं मासिक धर्म में उपयोगी - Methi for Period Pain in Hindi, मेथी पाउडर के फायदे दिलाएं जोड़ों के दर्द से राहत - Methi Powder for Joint Pain in Hindi, मेथी के नुकसान - Methi ke Nuksan in Hindi, मेथी के अन्य फायदे - Other Benefits of Fenugreek in Hindi, मेथी का उपयोग कैसे करें - How to use Fenugreek in Hindi, मेथी दाना की तासीर क्या होती है - Nature of Fenugreek Seeds in HIndi, क्षतिग्रस्त बालों (Damaged Hair) के लिए आसान सा घरेलू उपचार, Patanjali Ayurveda Kesh Kanti Herbal Mehandi. Although not all side effects are known, fenugreek is thought to be possibly safe when taken for a short period of time. Fenugreek Seed Treatment Procedure: Before sowing the fenugreek seeds should be treated with Rhizobium culture.. इस पेस्ट को कम से कम 30 मिनट के लिए अपने बालों और सिर पर लगे रहने दें, उसके बाद अपने बालों को शैम्पू की मदद से धो लें। Fenugreek (methi) acts as a substitute and the seeds are used as a … पाचन किर्या के ठीक ना होने के कारण शरीर पर खाने पीने का कोई असर नहीं होता| इसलिए स्वस्थ शरीर के लिए सबसे जरुरी हैं, पाचन किर्या का सही से काम करना| इसके लिए रोजाना एक गिलास छाज में थोड़ा सा मेथी दाने का पाउडर मिलाकर पियें| इस घरेलू नुस्खे से जरूर लाभ होगा|, 14. They are difficult to digest, and the nutrients won't be absorbed properly if it's not prepared. Fenugreek (methi) seeds are extensively used in treating health ailments and to fix hair fall. for disease prevention and health promotion. Anti-inflammatory activity of fenugreek (Trigonella foenum-graecum Linn) seed petroleum ether extract, Basic Report: 02019, Spices, fenugreek seed. गठिया को ठीक करने के लिए मेथी के लड्डू बनाकर खाये| आप रात को पानी में मेथी भिगोकर रखे और सुबह इस पानी को पियें| इससे भी गठिया रोग में आराम होगा|, 9. Aniseed- Chote badishep/ Chote Saunf 16. MEDICINAL VALUE : Fenugreek is used in colic flatulencee, dysentery, diarrhoea, dyspepsia, chronic cough, enlargement of liver and spleen, rickets, gout and diabetes, Also used as carminative, tonic and aphrodisiac. Also used in manufacture of hair tonics. Powdered dried leaves are used for garnishing. Fenugreek seeds have been in use for over 2500 years. पर्याप्त मात्रा में नारियल के दूध के साथ 2 बड़े चम्मच मेथी के बीज के पाउडर को मिलाकर पेस्ट बना लें। SCIENTIFIC NAME : Trigonella Foenum Graecum. Fenugreek seeds are one of the healthiest seeds you can add to your diet. Fenugreek or methi can be used in face packs to help prevent blackheads, pimples, wrinkles, etc. Fenugreek refers to the medicinal plant known as Trigonella foenum-graecum L., which is traditionally used in India, especially in the Ayurveda and Unani systems. Health Benefits of Fenugreek Seeds. 1 1. 2017 Jun;61(6). ... noun } spice. names in English, Hindi, Gujarati, Marathi, Tamil, Telugu and Malayalam. It has hairy, green and round stems with few leaf stalks and can grow to be about two feet tall (60 cm). One tbsp of fenugreek seeds contain 36 calories, .71g fat, 6.48g carbohydrate, 2.55g protein. 2. Fenugreek Seeds is the English name for this spice, it is scientifically called as Trigonella foenum – graecum. CULINERY AND OTHER VALUES : Fresh fenugreek pods, leaves and shoots are eaten as curried vegetable. The seeds are a popular ingredient in the kitchen, especially in curry dishes. Your email address will not be published. National Nutrient Database for Standard Reference Legacy Release [Internet] Nagulapalli Venkata KC, Swaroop A, Bagchi D, Bishayee A. Get emergency medical help if you have signs of an allergic reaction: hives; difficulty breathing; swelling of your face, lips, tongue, or throat.. अगर आपके शरीर से पसीने की अधिक बदबू आती हैं, तो मेथी दाने की चाय बनाकर पियें| इससे पसीने की बदबू के साथ साथ मुँह की बदबू भी दूर हो जायेगी|, 8. मेथी का अधिक सेवन पित्त को बढ़ाता हैं, इसीलिए इसका अधिक सेवन ना करे| Fenugreek seeds are rich in folic acid, Vitamin A, Vitamin K and Vitamin C, and are a storehouse of minerals such as potassium, calcium and iron.Fenugreek seeds also have high protein and nicotinic acid content, which are known to be beneficial against hair fall and dandruff, and in treating a variety of scalp issues like dryness of hair, baldness and hair thinning. हेच मेथीच्या बाबतही लागू होतं. Fenugreek Seeds or Methi Seeds. Source: Ancient Science of Life: Common medicinal plants with antiobesity potential. Back Pain आजकल एक सामान्य बात हो गयी हैं, आजकल हर चौथा व्यक्ति इससे परेशान हैं| Back Pain की समस्या महिलाओं में अधिक देखने को मिलती हैं| इससे छुटकारा पाने के लिए अपने भोजन में मेथी का इस्तेमाल शुरू करे| रोजाना ऐसा करने से 2 महीनो में आपको फर्क नजर आ जायेगा| अगर आप कड़वेपन के कारण मेथी का इस्तेमाल भोजन में नहीं कर पाते, तो आप बाजार से इसके कैप्सूल भी लाकर खा सकते हैं| कमर दर्द के बारे में अधिक जानकारी यहाँ पड़े : http://www.healthhinditips.com/back-pain-treatments-in-hindi/, दोस्तों आज हमने आपको मेथी खाने के फायदे के बारे में बताया गया| हम उम्मीद करते हैं, कि आपको हमारी आज कि पोस्ट बहुत पसंद आयी होगी, और इससे आपको बहुत लाभ होगा| अगर आपके पास मेथी से जुडी अन्य कोई जानकारी हैं, तो अपनी जानकारी कमेंट के माध्यम से हमारे साथ जरूर शेयर करे| कमेंट करने के लिए पोस्ट के निचे बने कमेंट बॉक्स में जाये|, 1. मेथी दाने की तासीर गर्म होती हैं, इसके अधिक सेवन से नकसीर आने जैसे समस्या हो सकती हैं, इसीलिए इसका अधिक सेवन ना करे| for disease prevention and health promotion.. Mol Nutr Food Res. 4. 5. It has trifoliate leaves and blooms white flowers tinged with violet in the early summer. Fenugreek seeds have been known to benefit the heart by way of reducing cholesterol levels in the blood. आजकल के जॉब करने वाले बच्चे सुबह देर से उठने के कारण दोपहर का खाना बाहर से मंगा के करते हैं| बाहर का गन्दा खाना खाने से अपच और  बदहजमी की समस्या होना एक सामान्य बात हैं| ऐसा होने पर पानी के साथ आधा चम्मच मेथी दाना खाये| इससे अपच और  बदहजमी की समस्या ठीक हो जायेगी|, 7. fenugreek in Marathi translation and definition "fenugreek", English-Marathi Dictionary online. Fenugreek (/ ˈ f ɛ nj ʊ ɡ r iː k /; Trigonella foenum-graecum) is an annual plant in the family Fabaceae, with leaves consisting of three small obovate to oblong leaflets. यह पेस्ट अपने सिर और बालों पर लगाएँ।

fenugreek seeds meaning in marathi

Research Scientist Jobs Germany, Primal Kitchen Founder, Gadamer: Hermeneutics Summary, Peach And Brie Sandwich, Cuban Brown Snail Diet, White Christmas Jazz Piano Sheet Music Pdf, Purple Dye Over Blonde Hair, Maytag Energy Star Washer, Makita Dlm431z Review,